ख़ामोशी Khamoshi Lyrics in Hindi – Ritviz

0
193
views
Khamoshi lyrics, Hindi Lyrics

Khamoshi lyrics in Hindi is the latest brand new Hindi song sung by Ritviz. The Song Lyrics were penned down by Ritviz, Encore and the music was composed By Karan Kanchan, Ritviz.

Song Credit –

  • Song Title: KHAMOSHI LYRICS
  • Lyrics by: Ritviz, Encore
  • Singer: Ritviz
  • Music: Karan Kanchan, Ritviz

Khamoshi lyrics in Hindi

तेरे ही ज़िक्र जासूसी
मेरी ख़ामोशी है
रहूँ मैं चुप क्यूँ
बातूनी मेरी ख़ामोशी है
जलते बुझते हर्फ़ हैं जो
होंठों पे ये बर्फ क्यूँ हों
इन सवालों का तू जवाब है
सुन ज़रा..

तेरे ही ज़िक्र जासूसी
मेरी ख़ामोशी है
रहूँ मैं चुप क्यूँ
बातूनी मेरी ख़ामोशी है

दिल तेरा चकोरे सा भागा क्यूँ है
चाँद बगल में तेरा
कन्धों पे ये ख्वाब ऐसा लदा क्यूँ
तकिये पे रख तो ज़रा

छुपे हैं जो दिल के
सुराग दिखा दूं तुझे

तेरे ही ज़िक्र जासूसी
मेरी ख़ामोशी है
रहूँ मैं चुप क्यूँ
बातूनी मेरी ख़ामोशी है

दिल के बिछौने जो थे कोरे कोरे
रंग से खिलने लगे
ख्वाब के बगीचे धागा धागा चुने
फुर्सत से सिलने लगे

कहाँ से ये सीखा
हुनर बता दिल मेरे..

तेरे ही ज़िक्र जासूसी
मेरी ख़ामोशी है
रहूँ मैं चुप क्यूँ
बातूनी मेरी ख़ामोशी है

जलते बुझते हर्फ़ हैं जो
होंठों पे ये बर्फ क्यूँ हों
इन सवालों का तू जवाब है
सुन ज़रा..

तेरे ही ज़िक्र जासूसी
मेरी ख़ामोशी है
रहूँ मैं चुप क्यूँ
बातूनी मेरी ख़ामोशी है

More Related Lyrics

Watch Full Music Video Of Khamoshi Song

Khamoshi Lyrics

Yeh silsila
Hum tum yaha
Ulzahan hawa mein hain na

Gir hi raha ye kaisa kua hai
Waqt ab chalta hi rehna

Dheemi dheemi si jo ye raatein
Raatein jo teri baaton mein baate banaye na
Bhore bhaage bhage re manva maane na
Maane jo teri yaadein 100 yaadein sataye na

Khamoshi
Sahe na yeh nahi zaroori
Khamoshi
Sahe na ye nahi zaroori

Yeh silsila
Hum tum yaha
Ulzahan hawa mein hain na
Gir hi raha yeh kaisa kua hain
Waqt ab chalta hi rehna

Aaye na jaye na
Yaad aa raha
Par milna ho na ska
Par milna ho na ska

Khamoshi
Yeh silsila
Hum tum yaha
Ulzahan hawa mein hain na
Gir hi raha ye kaisa kua hai
Waqt ab chalta hi rehna

Dheemi dheemi si jo ye raatein
Raatein jo teri baaton mein baate banaye na
Bhore bhaage bhage re manva maane na
Maane jo teri yaadein 100 yaadein sataye na

Khamoshi
Sahe na yeh nahi zaroori
Khamoshi
Sahe na ye nahi zaroori

Yeh silsila
Hum tum yaha
Ulzahan hawa mein hain na
Gir hi raha ye kaisa kua hain
Waqt ab chalta hi rehna

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here